Saturday

पुदीना स्वादिष्ट तो है ही सेहत के लिए भी फायदेमंद है

10 comments
दिनेश शुक्ला -पुदीना को गुणों की खान कहें, तो अतिशयोक्ति न होगी. यह विटामिन-ए से भरपूर होता है. इसका स्वाद व सुगंध भोजन को लजीज बनाता है. पुदीना को घरों में उपलब्ध छोटी-सी जगह, जैसे-गमलों में आसानी से उगाया जा सकता है. पुदीने की चटनी स्वादिष्ट तो होती ही है, सेहत के लिए भी फायदेमंद है. पुदीने का अर्क दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. पुदीना पाचक तथा कफ, वायु, उल्टी, पेट दर्द और कृमि का नाशक है. यूनानी मत के अनुसार पुदीना अमाशय को शक्ति देनेवाला, पसीना लाने में सहायक बताया गया है. यह मासिक धर्म के अवरोध को भी दूर कर देता है. पुदीना पौधा नहीं, दवा भी हैजे में पुदीना, प्याज का रस, नींबू का रस बराबर-बराबर मात्रा में मिला कर पिलाने से लाभ होता है. उल्टी-दस्त, हैजा हो, तो आधा कप पुदीने का रस हर दो घंटे पर रोगी को पिलाएं. अजीर्ण होने पर पुदीने का रस पानी में मिला कर पीने से लाभ होता है. पेट दर्द और अरु चि में तीन ग्राम पुदीने के रस में जीरा, हींग, काली मिर्च, कुछ नमक डाल कर गरम करके पीने से लाभ होता है. प्रसव के समय पुदीने का रस पिलाने से प्रसव आसानी से हो जाता है. बिच्छू के दंश स्थान पर पुदीने का अर्क लगाने से यह विष को खींच लेता है और दर्द को भी शांत करता है. पुदीने को पानी में उबाल कर थोड़ी चीनी मिला कर उसे गरम-गरम चाय की तरह पीने से बुखार दूर होती है. बुखार के कारण आयी निर्बलता भी दूर होती है. धनिया, सौंफ व जीरा बराबर-बराबर लेकर उसे भिंगो कर पीस लें. फिर 100 ग्राम पानी मिला कर छान लें. इसमें पुदीने का अर्क मिला कर पीने से उल्टी का शमन होता है.  
Read More ->>
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 

Popular Posts

About Me

Translate

Recent Comments

| बुलेट न्यूज़ © 2012. All Rights Reserved | Template Style by manojjaiswalpbt | Design by Brian Gardner | Back To Top |